पिता की मौत के बाद BCCI ने मोहम्मद सिराज को दिया भारत लौटने का विकल्प, तेज गेंदबाज ने दिया ये जवाब

0
27


पिता के निधन के बावजूद
भारत नहीं लौटेंगे मोहम्मद सिराज, बीसीसीआई ने दिया था विकल्प

ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए भारतीय टीम में शामिल तेज गेंदबाज मोहम्मद सिराज (Mohammed Siraj) के पिता मोहम्मद गाउस का शुक्रवार को निधन हो गया


  • News18Hindi

  • Last Updated:
    November 21, 2020, 7:55 PM IST

नई दिल्ली. टीम इंडिया के तेज गेंदबाज मोहम्मद सिराज (Mohammed Siraj) के सिर से पिता का साया उठ गया है. शुक्रवार को उनके पिता मोहम्मद गाउस ने आखिरी सांस ली. सिराज के पिता पिछले कुछ वक्त से फेफड़ों की बीमारी से जूझ रहे थे. सिराज के पिता की मौत के बाद बीसीसीआई (BCCI) ने इस तेज गेंदबाज के साथ हमदर्दी जताई है. बीसीसीआई ने सिराज को ऑस्ट्रेलिया से भारत लौटने की पेशकश की लेकिन इस तेज गेंदबाज ने टीम के साथ बने रहने का फैसला किया है.

बीसीसीआई ने सिराज को भारत लौटने की पेशकश
बीसीसीआई के सचिव जय शाह ने शनिवार को एक प्रेस रिलीज जारी की, जिसमें उन्होंने जानकारी दी कि बोर्ड ने मोहम्मद सिराज से बातचीत की है. बीसीसीआई ने सिराज को भारत लौटने का विकल्प दिया लेकिन इस तेज गेंदबाज ने टीम इंडिया के साथ बने रहने का फैसला किया. मोहम्मद सिराज के इस फैसले का बीसीसीआई ने सम्मान किया और मुश्किल वक्त में उन्हें सांत्वना दी.

जानिए अब तक किन भारतीय क्रिकेटर्स को मिला पितृत्‍व अवकाश और किस की छुट्टियां हुई नामंजूर

दिनेश कार्तिक की पत्नी दीपिका पल्लीकल ने शेयर की रोमांटिक अंडर वाटर फोटो, फैंस ने दिया गजब का रिएक्‍शन

अपने पिता का सपना पूरा करना चाहते हैं सिराज
आपको बता दें सिराज (Mohammed Siraj) ने ऑस्ट्रेलिया में रुकने का फैसला अपने पिता के सपने की वजह से किया है. अपने पिता की मौत के बाद सिराज ने शुक्रवार को कहा था, ‘मेरे पिता का सपना था कि मैं देश का नाम रोशन करूं और वो मैं जरूर करूंगा. मैंने अपनी जिंदगी के सबसे बड़े समर्थक को खो दिया है, ये बेहद ही दुखद पल है. मुझे देश के लिए खेलते देखना उनका सपना था.’ बता दें सिराज के पिता एक ऑटो चालक थे लेकिन इसके बावजूद उन्होंने अपने बेटे को क्रिकेटर बनाने के लिए पूरी ताकत झोंक दी और उन्हें किसी चीज की कमी नहीं होने दी. आज मोहम्मद सिराज टीम इंडिया के सदस्य हैं.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here